Birthday Bill Gates : पढ़ाई छोड़ बदली दुनिया

दोस्तों आज हम ऐसे इन्सान के बारे मे जानने वाले जिनको आज कोई भी जनता है उनका नाम है बिल गेट्स आज उनका जन्म दिन चलिए जानते है उनका सफर विस्तार मे..

बिल गेट्स

शुरवाती जीवन बिल गेट्स

बिल गेट्स के पिताजी उनको बहुत बड़ा वकील बनाना चाहते थे. लेकिन बेटे का कभी पढ़ाई में मन नहीं लगा बिल गेट्स के पेरेंट्स उन्हें बहुत बड़ा वकील बनाना चाहते थे, बेटे का कभी पढ़ाई में मन नहीं लगा.

आज बिल गेट्स (Bill Gates) का जन्मदिन है. माइक्रोसाफ्ट (Microsoft) के फाउंडर बिल गेट्स को कौन नहीं जानता. माइक्रोसाफ्ट के जरिए उन्होंने दुनिया की तस्वीर बदल दी. दुनियाभर में आई कंप्युटर क्रांति में उनका भी योगदान रहा है. लेकिन बिल गेट्स का पढ़ाई में कतई मन नहीं लगता था. उन्होंने बीच में ही पढ़ाई छोड़ दी.

उसके पिता धनी वकील थे. उन्हें लगता था कि बेटा पढ़-लिखकर उनका नाम रोशन करेगा. उन्होंने बड़ी उम्मीदों के साथ उसे स्कूल भेजा. लेकिन समस्या ये थी कि बेटे का मन पढ़ाई में लगता ही नहीं था. टीचर्स लगातार उसे डांटती और नसीहतें देती थीं. एक दिन इसी लड़के ने ऐसा कुछ बनाया जिससे पूरी दुनिया उसकी दीवानी बन गई. वो दुनिया का सबसे धनी शख्स बन गया.

ये शख्स कोई और नहीं बल्कि बिल गेट्स थे. उनके पिता सिएटल के बड़े वकीलों में थे. घर में पैसे की कोई कमी नहीं थी. मां भी दो बड़ी कंपनियों में डायरेक्टर थीं.

बिल गेट्स 28 अक्टूबर 1955 को पैदा हुए तो उनके पेरेंट्स ने उसी समय उनका भविष्य प्लान कर लिया. उन्होंने कहा कि उनका ये बेटा बड़ा वकील बनेगा.

स्कूल मे नहीं लगता था मन

बिल को बड़े अरमानों से स्कूल भेजा गया, लेकिन जैसे-जैसे उनकी पढ़ाई बढ़ती गई, वो उससे दूर भागने लगे. वो क्लास गोल करते थे. स्कूल में क्लासेस के दौरान बाहर बैठकर अलग ही खयालों में खोए होते थे. जब उनका पढ़ाई में ही मन नहीं लगता था तो अच्छे नंबर कैसे आते.

बिल गेट्स के नंबर कभी अच्छे नहीं आए. पेरेंट्स चिंतित थे. वो बार-बार बेटे को पढ़ने के लिए कहते थे, लेकिन वह साफ-साफ कह देता था कि उसका पढ़ाई में मन ही नहीं लगता. वो वकील नहीं बनने वाला.

BILL-GETS ने बीच में ही पढ़ाई छोड़ दी. वह अपने दोस्त के साथ कंप्यूटर की प्रोग्रामिंग में जुट गए

पढ़ाई को कर दिया अलविदा

उन्होंने किसी तरह हाईस्कूल पास किया तो उन्हें आगे की पढ़ाई के लिए हार्वर्ड भेजा गया, लेकिन गेट्स ने बीच में ही पढ़ाई छोड़ दी. वह अपने दोस्त के साथ कंप्यूटर की प्रोग्रामिंग में जुट गए. उनका ये दोस्त पॉल एलन पहले ही अपनी पढ़ाई बीच में ही छोड़ चुका था.

पेरेंट्स ने उन्हें बहुत डांटा, लेकिन बिल पर कोई फर्क नहीं पड़ा. वह अपनी ही मर्जी के मालिक बन चुके थे. हालांकि पढ़ाई बीच में छोड़ने के कारण वह मजाक के पात्र जरूर बन गए थे. पिता के परिचितों से लेकर दोस्त तक जो भी मिलता था, उन पर फब्ती जरूर कस देता. उनकी खराब पढ़ाई लिखाई का मजाक बनाता था.

पिताजी को लगा कर रहे समय बर्बाद

जब बिल अपने दोस्त एलन के साथ मिलकर कंप्यूटर प्रोग्रामिंग कर रहे होते थे तो उनके पेरेंट्स को यही लगता था कि वह अपना समय बर्बाद कर रहे हैं. एक समय बाद पेरेंट्स ने मान लिया कि वह हाथ से निकल चुके हैं. लिहाजा उन्हें उनके हाल पर छोड़ दिया गया.

एक समय बाद पेरेंट्स ने मान लिया कि वह हाथ से निकल चुके हैं. लिहाजा उन्हें उनके हाल पर छोड़ दिया गया.

READ ALSO : boAt Storm स्मार्टवॉच लॉन्च, कीमत 1,999 रुपये धासु फीचर्स

रच डाली माइक्रोसॉफ्ट की नीव

जब बिल गेट्स ने पॉल एलन के साथ मिलकर अल्टवेयर के नाम से पहला प्रोग्राम बनाया, तो ये काफी अच्छा रहा. बस इसके बाद बिल और पॉल ने माइक्रोसॉफ्ट कंपनी बनाई. पहले तो माइक्रोसॉफ्ट ने दूसरी कंपनियों के लिए साफ्टवेयर बनाए, लेकिन जब विंडो पेश किया तो उसके बाद दुनियाभर के कंप्यूटर्स के आपरेटिंग सिस्टम विंडो पर चलने लगे. विंडो के जरिए माइक्रोसाफ्ट ने जो क्रांति की, उसके बाद ना कंपनी ने पीछे मुड़कर देखा और ना ही बिल गेट्स ने.

20 साल से ज़्यदा न 1 पर रहे धनी व्यक्ति

बिल गेट्स पिछले 20 से कहीं अधिक सालों तक दुनिया के सबसे धनी व्यक्ति रहे. अब भी वह दुनिया के टॉप पांच धनी लोगों में शुमार हैं. लेकिन ये वही गेट्स थे जिनका मन बेशक पढ़ाई में नहीं लगता था, लेकिन उनके पास एक अलग तरह का टैलेंट था.

अब बिल गेट्स दुनियाभर में स्वास्थ्य और शिक्षा को बेहतर करने के लिए दुनियाभर के कई प्रोग्राम्स के साथ जुड़े हुए हैं. उनका मेलिंडा गेट्स फाउंडेशन देशों को इसके लिए मोटी आर्थिक मदद देता है. भारत के कई राज्यों में उनके फाउंडेशन के साथ हेल्थ क्षेत्र में कई प्रोग्राम चल रहे हैं.

ALSO READ : शेर की उम्र ज्यादा है लेकिन बूढ़ा नहीं हुआ अभी तक : क्रिस गेल