हाथरस कांड : CBI जांच शुरू : एक्ट हत्या और गैंगरेप


हाथरस कांड : CBI जांच शुरू : एक्ट हत्या और गैंगरेप 


दोस्तों जैसा की आप जानते है हाथरस मे हुए जगण्य अपराध के प्रति आज जांच एजेंसी पर परदा उठा है. अब इसकी जांच CBI ने चालू कर दी है, अभी उम्मीद है की पीड़िता को न्याय मिलेगा चलिए जानते है पूरी वारदात.. 


हाथरस केस (Hathras Case) की जांच करने पहुंची सीबीआई (CBI) की टीम ने हत्या, गैंगरेप, हत्या का प्रयास और SC/ST ऐक्ट के तहत FIR दर्ज कराया है. सीबीआई टीम ने पुलिस अधिकारियों से मुलाकात कर केस से जुड़े दस्तावेज भी तलब किया. इस बीच आज हाई कोर्ट में आज होने वाली सुनवाई के लिए पीड़िता का परिवार लखनऊ के लिए रवाना हो गया है दोस्तों. 


मामले की जांच के लिए सीबीआई टीम रविवार की शाम को हाथरस पहुंची. हाथरस के एसपी विनीत जायसवाल ने हमारे सहयोगी अखबार टाइम्स ऑफ इंडिया के साथ बातचीत में बताया कि सीबीआई टीम ने जांच के दौरान जुटाए गए सबूतों और केस डायरी सहित केस से जुड़े डॉक्युमेंट्स मांगे. वहीं एक सीनियर पुलिसकर्मी ने बताया कि जांच के लिए सीबीआई के 15 अधिकारियों के अगले कुछ हफ्ते हाथरस में रहने की संभावना है.



CBI की टीम स्थानीय पुलिस द्वारा किए गए कथित अंतिम संस्कार, 14 सितंबर को रेप का केस नहीं लिखने के परिवार के आरोप सहित पूरे मामले की छानबीन करेगी, सीबीआई के प्रवक्ता ने बताया कि केस की जांच गाजियाबाद यूनिट करेगी, जिसमें स्पेशल टीम भी शामिल रहेगी. केस की इन्वेस्टिगेटिंग ऑफिसर डीएसपी (एसीबी, गाजियाबाद) सीमा पाहूजा है. 



लखनऊ भेजा जायेगा परिजन को 

वहीं हाथरस पीड़िता के परिवार के पांच सदस्य सोमवार की सुबह पुलिस की कड़ी सुरक्षा में हाई कोर्ट की लखनऊ बेंच में बयान देने जाएंगे. दरअसल, पुलिस का उनको रविवार को ही ले जाने का प्लान था. लेकिन परिवार ने खुद की जान का खतरा बताते हुए रात में जाने से इनकार कर दिया था. हाई कोर्ट ने हाथरस कांड का खुद संज्ञान लिया है. कोर्ट ने प्रमुख सचिव गृह, डीजीपी, एसपी और डीएम हाथरस को तलब किया है दोस्तों. 


29 सितंबर को हुवा था अपराध 

बता दें कि 14 सितंबर को हाथरस जिले के चंदपा क्षेत्र में 19 साल की एक दलित युवती से कथित रूप से गैंगरेप का मामला सामने आया था. युवती को पहले अलीगढ़ के जवाहरलाल नेहरू मेडिकल कॉलेज अस्पताल में भर्ती कराया गया था. बाद में उसे दिल्ली के सफदरजंग अस्पताल ले जाया गया था जहां बीते 29 सितंबर को उसकी मौत हो गई. मौत के बाद रात में ही पीड़िता का अंतिम संस्कार कर दिया गया था. इसके बाद घटना के विरोध में देश में जगह-जगह प्रदर्शन हुए. कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा और पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी पीड़िता के परिवार से मिलने हाथरस गए थे. 


संदिग्ध महिला से उठा परदा 

जानकारी मिली है कि संदिग्ध महिला का नाम राजकुमारी है, वो मध्यप्रदेश के जबलपुर की रहने वाली है. वीडियो में महिला सीपीआई व सीपीएम का प्रतिनिधि मंडल से बात कर रही है. महिला कहती दिखाई दे रही है कि मैं केवल आत्मीयता के तौर पर हाथरस गैंगरेप पीड़िता के घर आई हूं, मेरा कोई खून का रिश्ता इस परिवार से नहीं है. पिछले तीन दिन से इनके साथ हूं मैं इनकी लड़ाई आखिर तक लड़ना चाहूंगी.

वहीं, पीड़िता के परिजनों ने कहा कि वह महिला हमारी दूर की रिश्तेदार है, कोई नक्सली नहीं. परिजनों का कहना है यह सब एक साजिश है हमारे यहां जो आएगा उसे आतंकवादी बताया जा रहा है. एसपी का भी कहना है कि उन्हें नक्सल से जुड़े किसी कनेक्शन की कोई जानकारी नहीं मिली है दोस्तों. 

Read Also