Jawa Bike – आत्मनिर्भर भारत की बाइक यूरोप मे लॉन्च

दोस्तों जैसा की आप जानते है हमारे देश मे आत्मनिर्भर बनने जा रहा है इसी के बिच इंडिया की Jawa बाइक आयी है दोस्तों चलिए जानते है इसे डिटेल्स. 


MADE IN INDIA के तहत  Jawa स्टैंडर्ड मोटरसाइकिल को कंपनी ने यूरोपियन मार्केट में भी पेश कर दिया है दिया है दोस्तों. इस मोटरसाइकिल को Jawa की यूरोपियन वेबसाइट पर लिस्ट कर दिया गया है, जहां इसे 300 CL नाम दिया गया है. इसका बाइक का लुक तो बिलकुल भारतीय वर्जन जैसा ही है, हालांकि इंजन में कुछ बदलाव जरूर किए गए हैं. तो आइए जानते हैं इसकी इसके बारे मे. 






Jawa बाइक मे कुछ खास 


Jawa 300 CL में कंपनी ने यूरो 4-कंप्लायंट 294.7 CC का सिंगल सिलिंडर, लिक्विड कूल्ड Engine दिया गया है, जो 7000 RPM पर 22.5 BHP की पावर और 5750 RPM पर 25Nm का टॉर्क जेनरेट करता है दोस्तों. वहीं, भारतीय मॉडल में जो इंजन दिया गया है वो ज्यादा पावरफुल है. वह 27 BHP की पावर और 28 NM का टॉर्क जेनरेट करता है. बाइक की टॉप स्पीड 125kmph की है दोस्तों. 


जावा 300 CL में सिंगल चैनल ABS के साथ डिस्क और ड्रम ब्रेक दिए गए हैं. वहीं, भारतीय मॉडल में ड्यूल चैनल ABS के साथ ट्विन डिस्क ब्रेक मिलते हैं दोस्तों. इसके अलावा बाइक के सभी पार्ट्स भारतीय वेरियंट की ही तरह हैं. इसमें 18 और 17 इंच के वील्ज के साथ आगे की तरफ टेलिस्कॉपिक फॉर्क और पीछे मोनोशॉक मिलते हैं. 



किंमत Jawa बाइक 

बता दें कि भारत में JAWA क्लासिक सिंगल चैनल ABS की कीमत 1.73 लाख रुपये ब्लैक एंड ग्रे से शुरू होकर 1.74 लाख रुपये (मरून कलर) तक जाती है दोस्तों. वहीं, ड्यूल चैनल ABS वेरियंट की कीमत 1.82 लाख रुपये से 1.83 लाख रुपये तक है.



JAWA बाइक की पुरानी काहानी 
 
 
जावा मोटरसाइकिल  Ideal Jawa इंडिया में बनी 250 Cc क्षमता वाली टू स्ट्रोक रेसिंग मोटरसाइकिल थी. 1960 में मैसूर सिटी (वर्तमानकर्नाटक ) में फारूक ईरानी द्वारा स्थापित. Ideal Jawa ( इंडिया ) लिमिटेड ने इसे चोकोलॉकियाकी कम्पनी Jawa मोटर्स से लाइसेंस लेकर बनाया था दोस्तों.  उस समय 250 CC मॉडल में ईंधन की खपत के लिहाज से यह सर्वोत्तम मोटर बाइक थी. 

 
जो 3 लीटर पेट्रोल में 100 KM की दूरी तय करती थी. 1970 से लेकर 1990 के दशक तक पूरे 30 साल रेसिंग मोटरसाइकिलों में इसका कोई मुकाबला नहीं था दोस्तों. दो स्ट्रोक और दो साइलेंसर वाली यह अनूठी मोटरसाइकिल थी. 


जिसके सभी कलपुर्जे कवर्ड हुआ करते थे. इसकी सबसे बड़ी विशेषता यह थी कि इसके किक स्टार्टर से ही गीयर बदलने का काम हो जाता था. इसके अलावा इसका रखरखाव भी बहुत ही सस्ता और आसान था.अमूमन इसे किसी मोटर मकेनिक के पास ले जाने की जरूरत ही नहीं पड़ती थी. 


1960 से 1974 तक पूरे पन्द्रह साल जावा ब्राण्ड से यह भारत में बनायी गयी बाद में ब्राण्ड और मॉडल बदल कर येज़दी हो गया. परन्तु भारतीय बाजार में  ग्लोबलिज़शनएवं WTO के कठोर मापदण्डों के कारण सन् 1996 में इसकी निर्माता कम्पनी को इसका उत्पादन बन्द करने के लिये बाध्य होना पड़ा 
दोस्तों. 



Also Read




अधिक जानकारी के लिए जुड़े रहे