Arun Jaitley जी का रजनीतिक जीवन

                                  image source 

दोस्तों आज हम बात करने वाले है ऐसे माहान व्यक्तिमत्व की जिनकी प्रतिभा ही अनोखी थी आज हम बात करने वाले है अरुण जेटली जी की जिन्हे कहाँ जाता था भाजपा के संकट मोचक और Mr.भरोसेमंद के नाम से जाना जाता था. जब वह दुनिया के सबसे बड़े लोकशाही भारत के अर्थ मंत्री थे, तब उन्होने देश को एक अच्छी अर्थव्यवथा दीं. जब वह रक्षा मंत्री थे तब सैन्य क्षेत्र मै देश के लिए अच्छे अच्छे रक्षा के डील उनके कालखंड मै हुई है, तो चलिए दोस्तों जानते है इस माहान इंसान के बारे मै जिन्होने जो देश को दीं हुई यादो के बारे मै 

कहाँनी की शुरवात होती है 28 दिसंबर 1952 को उनके पिता का नाम महाराज किशन जेटली था. वह पेशे से वकील थे वह नारायण विहार दिल्ली मै रहते थे उनकी माँ का नाम रत्न प्रभा जेटली था Arun jaitley की स्कूल की पढ़ाई saint xaviers स्कूल मै हुई, जेटली जी बचपन से ही होनहार थे, पढ़ाई के आलावा उनको डिबेट करना, क्रिकेट खेलना भी बहोत पसंद किया करते थे. अपनी आगे की पढ़ाई श्री राम कॉलेज ऑफ़ कॉमर्स मै पूरी की इसी कॉलेज मै बेहतरीन डिबेट के पात्र बन उन्होने अपनी पहचान बनायीं थी और अपने कॉलेज मै छात्र अध्यक्ष के पद पर भी चुने गए थे. अपनी वकालत की पढ़ाई उन्होने दिल्ली यूनिवर्सिटी से ही पूरा किया था. 

                  : हिन्दुस्तानी भाऊ का सफर जानकर आप हो जाएंगे दंग 


Arun jaitley जी का राजनितिक जीवन 


उनकी राजनितिक जीवन का सफर 1974 से अपने कॉलेज से शुरू हुवा था जब वह अध्यक्ष चुने गए थे, उस वक्त की यह सफलता साधारण न थी क्यकि यह दौर था जब कांग्रेस देश की सबसे शक्तिशाली राजनितिक पार्टी के रूप मै थी. उनके छात्र संघटन The national union of india देश भर के महाविद्यालय और विश्वविद्यालय मै बहोत प्रभाव था, ऐसे वक्त मै Arun जेटली जी ने छात्र संघटन अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद से चुनाव लड़ा था और इसमे ही जीत हासिल की थी. 

                                 image source 


1977 मै अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद दिल्ली और ABVP सेक्रेटरी ऑफ़ इंडिया के अध्यक्ष पुरे भारत मै  सचिव के रूप मै नामांकित किया गया था. इसमे लम्बे समय तक काम करने के बाद अनुभव के तौर पर उभरकर 1980 मै भारतीय जानता पार्टी की सदस्यता ग्रहण कर ली, उन्होने इसके बाद भारतीय जानता पार्टी के लिए दिल्ली शाखा मै युवा ब्रिगेड की भी स्थापना की थी इसके बाद वह अपनी सारी जिंदगी मै कभी नही रुके.
 
1991 मै भारतीय कार्यकारणी का सदस्य के रूप मै भी अरुण जेटली जी को चुना गया था.

– 1998 मै यूनाइटेड नेशन ( UN) की और से डेलीगेट बनाकर भेजा गया और इसी वक्त उन्होने ड्रग्स और मनी लॉड्रिंग का case आमसभा मै प्रस्ताव रखा. 

– 1999 मै arun jaitley जी को आम चुनाव के ठीक पहले तक पार्टी प्रवक्ता के रूप मै चुना गया था. 

जब पार्टी चुन कर आयी थी तब उन्हें ब्राडकास्टिंग मिनिस्टर की जिम्मेदारी दीं गई थी. इसी दौरान लॉ जस्टिस और कंपनी अफेयर्स जैसे काम करने का मौका दिया गया था. इसी के बाद डिसइनवेस्टमेंट मॉनिटर्स के रूप मै राज्यमंत्री पद पर उनका चुनाव किया था. सन 2000 मै उनको सांसद ( member of parliament ) के तौर पर चुना गया था और इसी वर्ष के दौरान उन्हें 
मिनिस्टर ऑफ़ पार्लियामेंट 
मिनिस्टर ऑफ़ लॉ जस्टिस 
मिनिस्टर ऑफ़ कंपनी अफ़्फ़ैर्स 
मिनिस्ट्री ऑफ़ शिपिंग 
उन्हें जो जो जिम्मेदारीया सोपी गई इसे उन्होने बखूबी पूरा किया था. 

सन 2000 मै राम जेठ मलानी के कैबिनेट के इस्तीफे के बाद उनकी जगह arun jaitley जी को कैबिनेट मिनिस्टर बना दिया गया था. क़ानून मंत्रालय का भार सँभालते हुए उन्होने, 
सिविल प्रोसीजर कोड 
भारतीय दण्ड प्रक्रिया 
ऐसे कही कंपनी एक्ट मै संशोधन करवाये थे. 2003 तीन तक उन्होने ने पार्टी के प्रवक्ता के तौर पर काम किया.अपने कार्यकाल के दौर पर उन्होने विश्व व्यापार संघठन से वर्ल्ड बिसिनेस सर्कल मै अपनी भूमिका को निर्णायक मोड दिया जिसपर देश आज तक कायम है. 

इसके बाद 2012 मै दो बार सांसद के तौर पर चुन कर आये और आगे जब उन्होने 2014 मै अमृतसर से चुनाव लड़ा था तब उन्हें हार का सामना करना पड़ा था. इसी वर्ष उन्हें एक बहोत बड़ी जिम्मेदारी सौंप दीं गई जहाँ उन्हें फाइनेंस मिनिस्टर के रूप मै नियुक्त किया गया था. 

जहाँ बहोत पॉलिटिशियन लोग खुर्सी के लिए लड़ रहे थे उसी दौरान जब नरेन्द्र मोदीजी देश के पंतप्रधान पुन:ह 2019 को चुन कर आये थे तब इस माहान इंसान ने पंतप्रधान को खत लिख कर कहाँ था “की मै इस बार कैबिनेट मै नही बना रह सकता हु कृपया आप मेरा नाम ना डाले ” उन्होने शायद भाप लिया था की उनकी देश की सेवा शायद इतनीही है आखिर कर वह दिन आया जब उन्होने  24 august 2019 को इस दुनिया से अलविदा कहाँ. ऐसे माहान आत्मा को मेरा प्रणाम जिन्होने अपना पूरा जीवन देश सेवा के लिए लगाया. 

अधिक जानकारी के लिए जुड़े रहे